Dhoomil

‘मोचीराम’/धूमिल

सुदामा पांडेय ‘धूमिल’ (9 नवंबर 1936 – 10 फरवरी 1975), हिन्दी कविता में इतनी बुलंद, इतनी निर्भीक, इतनी खनकदार आवाज़ कोई दूसरी नहीं। आजादी...
bob-dylan-performing-mr-tambourine-man

मि. टम्बरिन मैन

हे! साधो रे! एक गीत मेरे लिए न ठौर है न ठिकाना, न ही नींद है हे! साधो रे! एक गीत मेरे लिए खनकती भोर जागे, तेरे...
Main Adivasi Hoon

मैं आदिवासी हूँ

मुझे नहीं पता शहरों की चकाचौंध हवस और हिंसा क्या होती है मुझे नहीं बताया मेरे पूर्वजों ने मुझे दिखलाई गई केवल बाँह से हथेली की दूरी और यह कहकर भेज...
Kedarnath Singh

केदारनाथ सिंह: मंगलेश डबराल की शब्दांजलि

सोमवार, 19 मार्च को समकालीन हिन्दी कविता बड़े हस्ताक्षर और अज्ञेय के ‘तीसरा सप्तक’ के प्रमुख कवि डॉ. केदारनाथ सिंह (7 जुलाई 1934 -...
Svetlana Alexievich

सृजन को नया आयाम देती स्वेतलाना एलेक्सिएविच

आज जबकि पत्रकारिता ‘सेंशेसन’ में खोती जा रही है और मानव-मन के भीतर झाँकने का चलन खत्म-सा हो गया है, स्वेतलाना एलेक्सिएविच को पढ़ना...
Hindi Diwas 2018

हिन्दी का दिन

आज दुनिया भर में भारत की पहचान जितनी अपनी सांस्कृतिक विविधताओं और तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के लिए है, उतना ही इसे हिन्दी के...
Amitav Ghosh

अमिताव घोष को ज्ञानपीठ

अंग्रेजी के सुविख्यात साहित्यकार अमिताव घोष को वर्ष 2018 के लिए 54वां ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया जाएगा। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित होने वाले वे अंग्रेजी...

मंटो से गुजरकर

मैं उसे लगातार नहीं पढ़ सकती। वह मुझे सन्न छोड़ जाता है। मुझ जैसों को जिन्दा रहना हो, तो उस जैसे से छह-आठ महीने...
Hindi Diwas 2017

हिन्दी को हराकर हम जीत नहीं सकते

हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा है, हिन्दी हमारी राजभाषा है, हिन्दी में हिन्दुस्तान की आत्मा बसती है, हिन्दी ही पहचान है हमारी और फिर भी विडंबना...
goddess-durga

नवरात्र ही क्यों, नवदिन क्यों नहीं?

नवरात्र यानि नव अहोरात्र यानि नौ विशेष रात्रियां। इन नौ रात्रियों में ‘शक्ति’ के नौ रूपों की उपासना की जाती है। हमारी परम्परा में...