दुनिया का पहला आधुनिक एटलस

0
105
Abraham Ortelius
Abraham Ortelius

बहुत खास दिन है 20 मई। क्यों खास है, यह जानने के लिए आज से लगभग 450 साल पहले की कल्पना कीजिए। दुनिया का कोई मुकम्मल नक्शा नहीं था तब। पृथ्वी की भौगोलिक बनावट को समझ पाना कितना कठिन रहा होगा उस समय। ऐसे में एटलस की परिकल्पना करना और उसे साकार कर देना असंभव-सा प्रतीत होता है, पर 1570 ई. में आज ही के दिन यानि 20 मई को अब्राहम ऑर्टेलियस ने दुनिया का पहला आधुनिक एटलस प्रकाशित किया और इसे बड़ा सही नाम दिया – Theatrum Orbis Terrarum यानि Theatre of the World अर्थात् दुनिया का रंगमंच। सच्चे अर्थों में दुनिया का रंगमंच ही था वो। इसमें उन्होंने कई कार्टोग्राफर के काम को उनकी व्याख्या और स्रोतों के साथ समाहित किया था। कुछ खामियों और सीमाओं के बावजूद ऑर्टेलियस के इसी एटलस ने व्यवहार में लाए जाने वाले आज के सभी एटलस की नींव रखी थी।

4 अप्रैल 1527 को बेल्जियम के एंटवर्प में जन्मे अब्राहम ऑर्टेलियस पेशे से भूगोलविद और मानचित्र निर्माता थे। उन्होंने अपनी ज़िन्दगी में पहला मैप मिस्र का बनाया था। एशिया, स्पेन और रोमन साम्राज्य के नक्शे भी उन्होंने बनाए। 16वीं शताब्दी में प्रकाशित उनके एटलस में 53 मानचित्र थे। यह वो समय था जब दुनिया में नए-नए इलाके खोजे जा रहे थे। अमेरिका, अफ्रीका के कई देशों को इस सदी में दुनिया ने जाना। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया और अंटार्कटिका के बारे में तब कोई जानकारी नहीं थी, इसलिए इस एटलस में पांच महाद्वीपों के ही नक्शे हैं।

ऑर्टेलियस के एटलस से दुनिया की खोज में निकले लोगों को अपनी मंजिल ढूंढ़ने में खासी मदद मिली, संचार में आसानी हुई और उनके नक्शों ने लोगों को पहली बार वैश्विक दृष्टिकोण का साक्षात्कार कराया। कॉन्टिनेन्टल ड्रिफ्ट थ्योरी, जिसमें कहा जाता है कि दुनिया के सारे द्वीप आपस में जुड़े हुए थे और धीरे-धीरे वे टूटना शुरू हुए, की प्रारंभिक जानकारी भी इस एटलस से मिलती है।

अब्राहम ऑर्टेलियस असाधारण प्रतिभा के धनी थे। उनका कई भाषाओं पर अधिकार था। वह बचपन से ही डच, ग्रीक, लैटिन, इटालियन, फ्रेंच, स्पैनिश और कुछ हद तक जर्मन और अंग्रेजी भी बोल सकते थे। उन्होंने क्लासिक साहित्य का अध्ययन किया और विज्ञान के विकास से भी लागातार अपने आप को जोड़े रखा। यह ऑर्टेलियस का ही भगीरथ प्रयत्न था कि दुनिया के ‘कैनवास’ को उसका सही विस्तार मिला। 1570 में अपने एटलस के प्रकाशन के बाद भी दुनिया को समझने और समझाने की उनकी ललक कम न हुई। यही कारण है कि 1622 में जब उनके एटलस का अंतिम संस्करण प्रकाशित हुआ तब उसमें 167 मैप थे। उनके इस अवदान की ऋणी पूरी मानव-सभ्यता है। इस महान शख्सियत की मृत्यु 71 वर्ष की आयु में 28 जून 1598 को हुई। उन्हें और दुनिया को उनके योगदान को हमारा नमन।

बोल बिहार के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here