और ‘चांदनी’ ने बदल लिया ‘आसमान’..!

0
931
Sridevi in Film 'Chandni'
Sridevi in Film 'Chandni'

25 फरवरी का दिन भारतीय सिनेमा के लिए एक सदमा लेकर आया। शनिवार देर रात दुबई में बॉलीवुड की पहली फीमेल सुपरस्टार श्रीदेवी की हृदय गति रुक जाने से मृत्यु हो गई। अपने भावपूर्ण अभिनय, शानदार नृत्य और चुलबुली मुस्कुराहट से लाखों दिलों पर राज करने वाली अभिनेत्री ने अचानक हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह दिया। हिन्दी सिनेमा में ‘लेडी अमिताभ’ कही जाने वाली श्रीदेवी 54 साल की थीं। उन्होंने 5 बार बेस्ट एक्ट्रेस का ‘फिल्मफेयर’ पुरस्कार जीता था और साल 2013 में उन्हें ‘पद्मश्री’ से नवाजा गया था। गौरतलब है कि श्रीदेवी अपने पति बोनी कपूर के भांजे मोहित मारवाह की शादी में शामिल होने के लिए सपरिवार दुबई में थीं।

श्रीदेवी ने महज 4 साल की उम्र में तमिल फिल्म ‘थुनाइवन’ से अपनी आधी सदी लंबी अभिनय यात्रा शुरू की थी। इसके बाद उन्होंने तमिल, तेलुगू, मलयालम और कन्नड़ फिल्मों में भी अभिनय किया लेकिन उन्हें देशभर में असली पहचान हिन्दी फिल्मों से मिली। हिन्दी फिल्मों में उन्होंने अपनी शुरुआत साल 1975 में आई फिल्म ‘जूली’ में बतौर बाल कलाकार की, लेकिन फिर उन्होंने दक्षिण का रुख कर लिया। इसके बाद उनकी वापसी ‘सोलहवां सावन’ से हुई। हिन्दी में बतौर लीड एक्ट्रेस यह उनकी पहली फिल्म थी। मगर सफलता उनको 1983 में जीतेन्द्र के साथ आई फिल्म ‘हिम्मतवाला’ से मिली। इस फिल्म ने उन्हें हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री में ग्लैमरस अभिनेत्री के तौर पर स्थापित कर दिया। लेकिन इसी साल आई फिल्म ‘सदमा’ से उन्होंने अपनी अभिनय क्षमता का लोहा भी मनवा लिया। इस फिल्म में उन्होंने एक ऐसी लड़की की भूमिका निभाई थी, जो अपनी याद्दाश्त खो बैठती है।

80 और 90 के दशक में श्रीदेवी ने बॉलीवुड पर राज किया था। सच तो यह है कि उनके जैसी धाक और धमक किसी हीरोइन की नहीं रही। उनका जलवा कुछ ऐसा था कि उनका नाम ही फिल्म की सफलता की गारंटी होता था। ‘मवाली (1983)’, ‘तोहफा’ (1984), ‘नगीना’ (1986), ‘मिस्टर इंडिया (1987)’, ‘चांदनी’ (1989), ‘चालबाज’ (1989), ‘लम्हे’ (1991), ‘खुदा गवाह’ (1992), ‘गुमराह’ (1993), ‘जुदाई’ (1997) जैसी फिल्में इस बात का सबूत हैं। ये फिल्में ना केवल उनके करियर के लिए, बल्कि हिन्दी सिनेमा के लिए मील का पत्थर रही हैं।

श्रीदेवी ने हिन्दी फिल्मों में अपनी दूसरी पारी साल 2012 में आई फिल्म ‘इंग्लिश विंग्लिश’ से शुरू की, जिसमें उनके काम को जबरदस्त सराहना मिली। पिछले साल आई फिल्म ‘मॉम’ में भी उनके काम की काफी तारीफ हुई थी। माना जाता है कि शाहरुख खान की आने वाली फिल्म ‘जीरो’ में भी उन्होंने बतौर मेहमान कलाकार काम किया है। ऐसे में यह उनकी आखिरी फिल्म होगी।

नियति का चक्र देखिए शून्य से शिखर की यात्रा करने वाली श्रीदेवी की आखिरी फिल्म का नाम ‘जीरो’ (यानि शून्य) था। हम चाहे लाख शिखर पर रहें, हमें जाना ‘शून्य’ में ही होता है। शून्य जो अनंत है, अटल है। पर श्रीदेवी का असामयिक निधन वाकई बेहद खलने वाला है। जीवन का अंतिम सत्य अपनी जगह है, पर हम तो यही कहेंगे… तुम्हें यूं ना जाना था ‘चांदनी’! हमें पता है, वह जहां भी रहेगी, चमकती और दमकती ही रहेगी, पर अपना आसमान उसे यूं ना बदलना था..! बहरहाल, अभिनय-कला पर अपनी अमिट छाप छोड़ने वाली श्रीदेवी को भावभीनी श्रद्धांजलि..!

‘बोल बिहार’ के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here