एक शख्स बनाम 50 करोड़ लोगों का हक!

0
471
Nirav Modi
Nirav Modi

इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट या सोशल मीडिया – जरिया जो भी रहा हो, नीरव मोदी को आप जान जरूर गए होंगे। अरबपति हीरा व्यापारी नीरव मोदी, जिसने देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक के कुछ कर्मचारियों के साथ मिलकर 11 हजार 300 करोड़ का घोटाला कर डाला। यह देश का सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला बताया जा रहा है।

बहरहाल, 11 हजार 300 करोड़ बहुत बड़ी रकम है, इतनी बड़ी कि एक सामान्य क्या विशिष्ट कोटि में आने वाला भारतीय भी अपनी पूरी उम्र में ऐसी रकम के बारे में सोचने या लिखने तक की हिमाकत नहीं कर सकता। धनपतियों की किंवदंती बन चुके टाटा, बिड़ला या अंबानी भी इस रकम के बारे में बहुत सोच-संभल कर कुछ बोलेंगे। ऐसे में ये जानना सचमुच दिलचस्प होगा कि असल में ये रकम कितनी बड़ी है? चलिए, जानने की कोशिश करते हैं।

जैसा कि आप जानते हैं, इसी महीने संसद में पेश हुए मोदी सरकार के आखिरी पूर्ण बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने देश के लिए एक बड़े तोहफे की घोषणा की। यह तोहफा ‘मोदीकेयर’ के नाम से चर्चा में है। इसके तहत सरकार देश के 10 करोड़ परिवार यानि 50 करोड़ लोगों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा देगी। इसे दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम कहा जा रहा है और बजट में इसके लिए 2 हजार करोड़ रुपये का आवंटन भी किया गया है।

आपको बता दें कि आर्थिक मामलों के जानकारों ने जब यह संदेह जताया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए 2 हजार करोड़ रुपये का फंड पर्याप्त नहीं है तो सरकार की ओर से कहा गया कि यह आरंभिक आवंटन है और जरूरत के हिसाब से और फंड की व्यवस्था की जाएगी। ‘मोदीकेयर’ पर कुल खर्च कितना आएगा, यह आंकड़ा हालांकि अभी स्पष्ट नहीं हुआ है, लेकिन बकौल नीति आयोग 50 करोड़ लोगों को हेल्थ इंश्योरेंस देने में करीब 11 हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा, जिसका वहन केंद्र और राज्य मिलकर करेंगे। इसका मतलब यह है कि नीरव मोदी के घोटाले की रकम और सरकार की अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना ‘मोदीकेयर’ पर संभावित खर्च की राशि बराबर है। वैसे पीएनबी घोटाले का मोदी सरकार की इस योजना पर शायद ही कोई असर पड़े, लेकिन यह तुलना घोटाले की गंभीरता को तो जाहिर करता ही है।

जब बात चली ही है तो कुछ अन्य खर्चों को भी जानें, जिनसे इस घोटाले की तुलना दिलचस्प होगी। मसलन, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 1 फरवरी को बजट भाषण में 2.5 लाख ग्राम पंचायतों को जोड़ने वाले भारत नेट प्रॉजेक्ट की चर्चा करते हुए ऐलान किया था कि सरकार टेलिकॉम इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण के लिए 10,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी। इसी तरह लाखों लोगों को रोजगार देने वाले मछली पालन और पशुपालन व्यवसाय के लिए भी केन्द्रीय बजट में 10,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। उधर उत्तर प्रदेश में गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना तहत पक्का मकान दिलाने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार ने वर्ष 2018-19 के बजट में 11,500 करोड रुपये का प्रावधान किया है।

अब शायद आपको अंदाजा हो रहा होगा कि नीरव मोदी के घोटाले की रकम वास्तव में कितनी बड़ी है। लेकिन हद तो यह है कि यहां भारत में उसको लेकर हाहाकार मचा हुआ है, और उधर वो मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक न्यूयॉर्क में दुनिया के सबसे बड़े होटलों में शुमार एक होटल के आरामगाह में ऐश कर रहा है..! आदरणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजी, कुछ करें ऐसे ‘मोदियों’ का..!!

‘बोल बिहार’ के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here