‘चुनाव आयोग ने दिखाया शरद को आईना’

0
84
Sharad Yadav-Nitish Kumar
Sharad Yadav-Nitish Kumar

चुनाव आयोग ने जेडीयू चुनाव चिह्न का मामला सुलझाते हुए शरद खेमे का दावा खारिज कर नीतीश कुमार की अगुआई वाले जेडीयू को चुनाव चिह्न ‘तीर’ सौंप दिया। आयोग का यह फैसला शरद यादव के लिए करारा झटका है, जिन्होंने अपने कुछ समर्थकों के साथ राष्ट्रीय परिषद की अलग बैठक कर असली जेडीयू के अपने साथ होने का निरर्थक दावा किया था। चुनाव आयोग ने स्पष्ट तौर पर माना कि नीतीश के पास विधायक दल का पूर्ण समर्थन है।

गौरतलब है कि नीतीश कुमार के महागठबंधन तोड़ भाजपा के साथ सरकार बनाने के मुद्दे पर शरद यादव ने बगावती सुर अपना लिए थे और उनका खेमा अपने को असली जेडीयू करार दे रहा था। इसके बाद दोनों खेमों ने चुनाव आयोग में अपने-अपने पक्ष में दावे किए और दलीलें दीं। हालांकि जो राजनीति के थोड़े जानकार भी हैं, वे यह स्पष्ट तौर पर समझ रहे थे कि शरद खेमा अपने कुतर्कों से इस मामले को खींचना भर चाहता है, ताकि उस खेमे के नेता शरद यादव 2018 के राज्यसभा चुनाव आने और लालू की संभावित ‘मेहरबानी’ के आधार पर राजद कोटे से टिकट पाने तक अपनी सदस्यता बचाए रख सकें।

बहरहाल, चुनाव आयोग के इस फैसले पर जेडीयू नेताओं ने खुशी जताई है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि चुनाव आयोग ने हमारे दावे को सही माना, इसके लिए हम आयोग के प्रति आभार प्रकट करते हैं। आयोग के फैसले के बाद अब पार्टी गुजरात में चुनाव लड़ेगी। तीर आदिवासियों के बीच प्रसिद्ध है और हमें गुजरात में अच्छा समर्थन मिलेगा।

जेडीयू महासचिव व दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि आयोग ने नीतीश कुमार को पार्टी पदाधिकारियों और विधायकों, सांसदों के समर्थन के आधार पर यह आदेश दिया है। इसके लिए पार्टी का हर कार्यकर्ता बधाई का पात्र है।

जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव, मधेपुरा के पूर्व सांसद एवं राज्यसभा के सदस्य रहे डॉ. रमेन्द्र कुमार यादव रवि ने दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार को हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि अपने इस फैसले से चुनाव आयोग ने शरद यादव को न केवल आईना दिखाया, बल्कि साबित कर दिया कि सत्य हमेशा अपराजेय रहता है। डॉ. रवि ने कहा कि नीतीश कुमार जेडीयू की आत्मा हैं और उन्होंने इस दल को अपने संस्कारों और विचारों से सींचा है। जेडीयू के लाखों कार्यकर्ता ही नहीं आम जनता भी उन्हें जेडीयू के पर्याय के रूप में देखती है। उनके द्वारा खड़ी की गई पार्टी को शरद यादव झूठ के बल पर हाईजैक करना चाहते थे, लेकिन झूठ की उम्र अधिक लम्बी नहीं होती।

वहीं, जदयू के प्रदेश प्रवक्ता एवं विधान पार्षद नीरज कुमार ने चुनाव आयोग के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि आयोग के निर्णय से शरद यादव को जवाब मिल गया है। अब वे लालटेन सिर पर लेकर घूमें और तेजस्वी यादव जिंदाबाद के नारे लगाएं।

‘बोल बिहार’ के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here