लालू की ‘तंत्र’ राजनीति

0
183
Lalu Prasad Yadav with Shankar Charan Tripathi
Lalu Prasad Yadav with Shankar Charan Tripathi

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव आए दिन चौंकाने वाले काम करते रहते हैं और कभी-कभी कुछ ज्यादा ही चौंका देते हैं। जिन दिनों वे सत्ता के शिखर पर थे, उन्होंने लालू-चालीसा रचने वाले को उच्च सदन भेज कर ‘दरबारी’ राजनीति का नया संस्करण शुरू किया था और आज जब बिहार की सबसे बड़ी पार्टी (विधायकों की संख्या के लिहाज से) के मुखिया होकर भी वे परेशान हैं, उन्होंने ‘तंत्र’ राजनीति शुरू करने की ठान ली है। जी हां, लालू ने लगातार पीछा कर रहीं पारिवारिक व राजनीतिक परेशानियों से लड़ने के लिए एक तांत्रिक बाबा को अपनी पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता बना दिया है।

आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये बाबा कौन हैं और इनमें ऐसी क्या खूबी है कि लालू ने इन्हें प्रवक्ता जैसे महत्वपूर्ण पद से नवाज दिया है? तो बता दें कि शंकर चरण त्रिपाठी नाम के ये बाबा लखनऊ के रहने वाले हैं, पेशे से सेल्स टैक्स अधिकारी रहे हैं और तंत्र का भी ज्ञान रखते हैं। बताया जाता है कि पिछले काफी दिनों से लालू इनसे काफी प्रभावित रहे हैं और इन्हीं के कहने पर लालू ने रंगीन कुर्ता पहनना शुरू किया था। रंगीन कुर्ता पहनना शुरू करने के बाद लालू के दिन सचमुच फिरे और बिहार विधान सभा में उनकी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी।

पंडित शंकर चरण त्रिपाठी लोगों की कुंडली देखते हैं उनकी समस्याओं का समाधान मिनट भर में बता देते हैं। समाधान में छोटे-मोटे टोटके होते हैं। मसलन, किसे-कब जल अर्पित करें? किस रंग से प्यार करें और किस रंग से दूर रहें? कब-किस पशु-पक्षी को भोजन करा दें? कैसे वास्तु दोष दूर कर लें? उदाहरण के तौर पर हाल ही में लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप ने अपने सरकारी बंगले का दरवाजा पीछे की ओर कराया है।

बहरहाल, लालू के इस कदम पर जेडीयू के प्रदेश प्रवक्ता संजय सिंह ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि आरजेडी सुप्रीमो राजनीति में भी अपने लिए   आरोपी साथी ढूंढ रहे हैं। जिस तरह उन्होंने आरोपों का लबादा ओढ़ कर अपनी राजनीति की उसी तरह अपनी पार्टी के लिए भी आरोपी और दोषी पदाधिकारी ढूंढ कर ला रहे हैं।  उन्होंने कहा कि लालू ने जिन शंकर चरण त्रिपाठी को अपनी पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया है, उन पर बलात्कार का  आरोप है। यह आरोप किसी ने नहीं, बल्कि उनकी अपनी बहू ने लगाया है। लालू प्रसाद प्रवक्ता बनाने से पहले अपने इस तांत्रिक साथी के बारे में विस्तार से जानकारी तो ले लेते।

बकौल सिंह इन बाबा के बड़े-बड़े कारनामे हैं। लखनऊ में इनकी बड़ी बहू ने इन पर बलात्कार का आरोप लगाया है। यही नहीं, इनके लड़के पर भी उनकी बहू ने प्रताडऩा का केस किया हुआ है। अब लालू प्रसाद ऐसे लोगों को अपनी पार्टी का सिरमौर बना रहे हैं जिनसे बहु-बेटियां डरेंगी। लालू प्रसाद अपने कुनबे में एक से बढ़ कर एक नवरत्न रखे हुए हैं। इन नवरत्नों में शहाबुद्दीन, राजबल्लभ यादव और न जाने कितने माफिया शामिल हैं। अब उस फेहरिस्त में शंकर चरण त्रिपाठी चार चांद लगाएंगे। वहीं, बिहार भाजपा के नेता व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का कहना है कि लालू तंत्र-मंत्र के सहारे सत्ता वापसी चाह रहे हैं लेकिन अब यह नामुमकिन है। उन्होंने कहा कि लालू त्रिपाठी को प्रवक्ता क्यों बल्कि राष्ट्रीय अध्यक्ष बना देते तो सही रहता।

‘बोल बिहार’ के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here