डोकलाम: चीन को भारत की खरी-खरी

0
19
Doklam Standoff
Doklam Standoff

भारत ने डोकलाम मुद्दे पर चीन द्वारा दी जा रही लगातार धमकियों के बीच एक बार फिर दोहराया है कि सीमाई इलाकों में शांति दोनों देशों के बीच आपसी संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए एक अहम शर्त है। डोकलाम पर चीन सरकार के एक दस्तावेज पर आधिकारिक जवाब देते हुए भारत ने कहा कि डोकलाम मुद्दे पर 30 जून को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में नई दिल्ली का रुख साफ कर दिया गया था। उसका रुख अब भी वही है, उसमें कोई बदलाव नहीं आया है।

बता दें कि डोकलाम में सड़क निर्माण के मसले पर चीनी सरकार को अपनी चिंता से अवगत कराते हुए भारत ने 30 जून को जारी विज्ञप्ति में स्पष्ट रूप से कहा था कि “इस निर्माण से यथास्थिति में बदलाव आएगा और यह भारत की सुरक्षा के लिए खतरा हो सकता है। मौजूदा समय में सभी पक्ष द्विपक्षीय सहमतियों को माने और एकतरफा तरीके से यथास्थिति को नहीं बदलें।” पर चीन अपने कुतर्क पर अड़ा है और इस कारण डोकलाम में भारत और चीन के सैनिकों के बीच डेढ़ महीने से ज्यादा समय से तनातनी जारी है और दोनों देशों के रिश्तों में भी तल्खी बढ़ती जा रही है।

बहरहाल, चीनी विदेश मंत्रालय ने बुधवार को जारी एक 15 पेज के डॉजियर में कहा था कि भारत डोकलाम से अपनी सेना वापस बुलाए तभी दोनों देशों के बीच बातचीत हो सकती है। डॉजियर में कहा गया है कि डोकलाम में भारतीय सेना की एंट्री चीनी संप्रभुता का सरेआम उल्लंघन है। भारत ने भूटान की संप्रभुता और सुरक्षा का भी उल्लंघन किया है।

इस पर विदेश मंत्रालय ने जोर देकर कहा कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत का रास्ता खुला है, लेकिन दोनों पक्षों को डोकलाम से सेना हटाना होगा। पिछले महीने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में कहा था, ‘हम बातचीत करना चाहते हैं, लेकिन उसके लिए दोनों देशों को अपनी सेनाओं को पुरानी जगह पर ले जाना होगा। जबतक यह मसला चीन और भूटान के बीच था, हम इसमें नहीं पड़े। पर बात जब ट्राई-जंक्शन पर आई तो यह हमसे सीधे जुड़ा था। अगर चीन यथास्थिति में बदलाव करता तो यह हमारे सुरक्षा के लिए खतरा था।’    Online News Portal of Bihar

गौरतलब है कि डोकलाम में 16 जून को भारत और चीन की सेनाओं के बीच तनातनी बढ़ी थी। भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों को सिक्किम सेक्टर में भारत-चीन बॉर्डर पर सड़क निर्माण करने से रोका था। दरअसल भारत सिक्किम बॉर्डर को अपना इलाका मानता है, जबकि चीन 1890 की संधि का हवाला देकर इस क्षेत्र को अपना बताता है।

बोल डेस्क

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here