अर्थ आवर डे

0
21
Sydney Harbour Bridge During Earth Hour Day 2017
Sydney Harbour Bridge During Earth Hour Day 2017

दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन और इंडिया गेट हों या सिडनी के ऑपेरा हाउस और हार्बर ब्रिज, जापान का टोक्यो टावर हो या चीन का सेंट्रल रेडियो और टीवी टावर, इंडोनेशिया और मलेशिया के शहर हों या सिंगापुर और हांगकांग की गगनचुंबी इमारतें – पूरे साठ मिनट के लिए लगभग पूरी दुनिया प्रतीकात्मक अंधेरे के आगोश में थी। जी हां, चौंकिए नहीं। 25 मार्च की रात साढ़े आठ बजते ही सचमुच दुनिया की बत्ती गुल हो गई। मौका था 10वें अर्थ आवर डे का।

बता दें कि अर्थ आवर मनाने के लिए निर्धारित समय – रात साढ़े आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक – दुनिया के विभिन्न देशों में ऐतिहासिक स्मारकों और सरकारी-गैरसरकारी प्रतिष्ठानों से लेकर यथासंभव व्यक्तिगत आवासों तक में रोशनी बंद रखी गई। एक आंकड़े के मुताबिक इस एक घंटे में दुनिया भर के लगभग 7000 शहरों में बिजली बंद करके अर्थ आवर मनाया गया।

गौरतलब है कि अर्थ आवर डे मनाने की शुरुआत 2007 में ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में हुई थी। इसकी शुरुआत का श्रेय वाइड फंड फॉर नेचर (WWF) को जाता है। प्रारंभ में इसका उद्देश्य बिजली बचाने का संदेश देना था, लेकिन बाद में पर्यावरण सुरक्षा के प्रति जागरुकता का उद्देश्य भी इसमें जुड़ गया। दसवें साल तक पहुंचते-पहुंचते इसका कैनवास खासा बड़ा हो चुका है। अर्थ आवर के आयोजकों के मुताबिक इस बार पूरी दुनिया में रिकॉर्ड 147 देश धरती को बचाने के इस अभियान में शामिल रहे। यही नहीं, विश्वव्यापी आंदोलन का रूप ले चुके अर्थ आवर के दौरान इस साल अंतरिक्ष में भी अंधेरा रहा और पहली बार अंतरिक्ष स्टेशन ने भी इसमें भागीदारी की।

बोल डेस्क

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here