बॉलीवुड के यादगार होली-गीत

0
31
Rang Barse Song in Film Silsila
Rang Barse Song in Film Silsila

होली की उमंग को परिभाषित करने के लिए रंग-गुलाल जितने जरूरी हैं, उतने ही इस अवसर पर गाए और बजाए जाने वाले गीत भी। चाहे वो मिट्टी की सोंधी खुशबू लिए गांवों-कस्बों में गाए जाने वाले जोगीरे हों या फिर बॉलीवुड के दिए दर्जनों होली-गीत। चलिए, आज हम उन गीतों में से ऐसे कुछ गीतों को याद करें जिनके बगैर हमारी होली अधूरी मानी जाएगी।

सबसे पहले 1959 में आई क्लासिकल फिल्म ‘नवरंग’ का गीत ‘अरे जा रे हट नटखट’। भरत व्यास का गीत, सी रामचंद्र का संगीत, आशा भोंसले और महेन्द्र कपूर की आवाज और वी शांताराम का निर्देशन  -किसी गीत को अमर कर देने के लिए और क्या चाहिए! हमारी समृद्ध संस्कृति के न जाने कितने रंग आकर घुल गए हैं इस गीत में।

आगे चलकर बॉलीवुड के होली-गीतों को लोकप्रयिता की नई ऊँचाई पर लेकर जाते हैं बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन। शायद ही कोई हो जिसे 1981 में आई यश चोपड़ा की फिल्म ‘सिलसिला’ में उनकी जादुई आवाज़ से सजा गीत ‘रंग बरसे भीगे चुनर वाली’ याद न हो। इसे फिल्माया गया था उनकी और रेखा की चर्चित जोड़ी पर। साथ में जया भादुड़ी और संजीव कुमार भी थे। क्या आप जानते हैं कि इस सदाबहार गीत को अमिताभ बच्चन के पिता और हिन्दी के मूर्धन्य साहित्यकार हरिवंश राय बच्चन ने लिखा था!

होली-गीतों की बात करें तो 1982 में आई राजश्री की फिल्म ‘नदिया के पार’ का सचिन और साधना सिंह पर फिल्माया गीत ‘जोगीजी धीरे-धीरे’ भला कौन भूल सकता है! जोगीरा का पूरा माहौल रचता यह गीत अपनी सहजता और स्वाभाविकता में आज भी बेमिसाल है।

अब बात करते हैं ऑल टाइम क्लासिक ‘शोले’ के होली-गीत ‘होली के दिन खिल जाते हैं’ की। किशोर कुमार और लता मंगेशकर की आवाज से सजे इस गीत को आरडी बर्मन ने लयबद्ध किया था और बोल लिखे थे आनंद बख्शी ने। धर्मेंन्द्र और हेमा मालिनी की जोड़ी इसमें खूब जमी थी। गीतकार आनंद बख्शी और संगीतकार आरडी बर्मन की जोड़ी ने हमें एक और यादगार होली-गीत फिल्म ‘कटी पतंग’ में दिया। वो गाना था – ‘आज न छोड़ेंगे’, जिसे फिल्माया गया था राजेश खन्ना के ऊपर।

इन गीतों की कड़ी में सिलसिला के निर्देशक यश चोपड़ा के ही निर्देशन में बनी एक और फिल्म ‘डर’ के होली-गीत ‘अंग से अंग लगाना’ को भी भुलाना मुश्किल है। हालांकि इस गीत को फिल्माया गया था सनी देओल और जूही चावला के ऊपर, पर इसमें शाहरुख खान भी शामिल थे। कहने की जरूरत नहीं कि शाहरुख को स्थापित करने में इस फिल्म ने कितनी बड़ी भूमिका निभाई थी। यश चोपड़ा ने आगे चलकर फिल्म ‘मोहब्बतें’ में भी एक होली-गीत दिया, जिसके बोल थे – ‘सोणी सोणी अंखियों वाली’।

बहरहाल, होली-गीतों की ये परंपरा आगे भी बरकरार रही। ‘रंग बरसे’ के बाद अमिताभ बच्चन का गाया और उन्हीं पर फिल्माया एक और कमाल का गीत है फिल्म ‘बागबान’ का ‘होली खेले रघुवीरा अवध में’। इस गीत को उदित नारायण, सुखविंदर और अल्का याज्ञनिक ने भी अपनी आवाज दी है।

बॉलीवुड के और भी कई गीत हैं जिन्होंने हमारी होली को रंगीन किया है। चाहे फिल्म ‘वक्त’ में अक्षय कुमार और प्रियंका चोपड़ा पर फिल्माया गाना ‘लेट्स प्ले होली’ हो या हाल के दिनों में रणबीर कपूर-कैटरीना कैफ पर फिल्माया ‘ये जवानी है दीवानी’ का गीत ‘बलम पिचकारी’, या फिर अभी-अभी आई फिल्म ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ के टाइटिल ट्रैक में वरुण धवन-आलिया भट्ट की मस्ती से भरा ‘सा रा रा रा’… ये सिलसिला न टूटा है, न टूटेगा कभी।

बोल बिहार के लिए रूपम भारती

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here