मां गंगा का ‘बेटा’ कहां है?

0
73
Nitish Kumar
Nitish Kumar

प्रकाशोत्सव पर एक-दूसरे की तारीफ करने और नोटबंदी पर सुर में सुर मिलाने के बाद लोगों ने कहना शुरू कर दिया था कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच जरूर ‘कुछ’ पक रहा है। अटकलों का बाज़ार दिनोंदिन और गर्म होता देख नीतीश ने महसूस किया कि मोदी-विरोध का झंडा उठाए रखने में ही भलाई है। हाल ही में पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम की किताब ‘फियरलेस इन अपोजिशन’ के विमोचन के मौके पर उनके तेवर में नए सिरे से फिर पुरानी तल्खी दिखी थी। और अब उन्होंने ‘मां’ गंगा के बहाने ‘बेटे’ मोदी पर निशाना साधा है।

हुआ यों कि बीते शनिवार को नीतीश राजधानी पटना में गंगा की अविरलता के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में लोगों को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने जमकर मोदी की चुटकी ली और कहा – कहा गया (मोदी द्वारा) मां गंगा ने बुलाया है, लेकिन हम बनारस गए तो लोग कह रहे थे कि गंगा मां खोज रही थीं, कहां गया मेरा बेटा?

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 के आम चुनावों में काशी में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि मैं यहां खुद नहीं आया हूं, मुझे मां गंगा ने बुलाया है। उनके इस बयान का विपक्षी नेता लंबे समय से मखौल बनाते रहे हैं। अभी-अभी उत्तर प्रदेश के देवरिया में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने भी कहा कि मोदी जब बनारस गए थे तो कहा कि हमें गंगा मईया ने बुलाया है। आप सभी को मालूम होगा कि गंगा मईया कब बुलाती हैं।

बहरहाल, नीतीश ने इस मौके पर फरक्का बांध पर भी अपनी राय रखी। उन्होंने कहा कि इस पर राष्ट्रव्यापी चर्चा होनी चाहिए और विशेषज्ञों की राय मानी जानी चाहिए। नीतीश ने बताया कि हमने पिछली यूपीए सरकार से पश्चिम बंगाल में फरक्का बांध को बंद करने की मांग की थी। मैंने प्रधानमंत्री मोदी से भी कहा है कि इस बांध के कारण गंगा नदी में काफी गाद जमा हो रहा है, जिससे बिहार को हर साल भारी बाढ़ का सामना करना पड़ता है।

बोल बिहार के लिए डॉ. ए. दीप 

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here