सोशल मीडिया पर महानायक की सीख

0
193
amitabh-bachchan
amitabh-bachchan

 “अगर आप लोगों का गुस्सा, गालियां और तंज झेलने के लिए तैयार नहीं हैं तो आपको सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नहीं आना चाहिए।” यह कहना है बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन का। बकौल अमिताभ आलोचना से अपना मूल्यांकन करने का अवसर मिलता है, इसीलिए वे आलोचना को सकारात्मक तरीके से लेते हैं।

गौरतलब है कि बिग बी सोशल मीडिया के जरिए अपने फैंस से लगातार सम्पर्क बनाए रखते हैं। फेसबुक, ट्विटर और ब्लॉग के माध्यम से अपने प्रशंसकों को लगातार अपडेट करते रहते हैं। सोशल मीडिया को लेकर उम्र के 75वें पड़ाव पर वे जितने उत्सुक, उत्साहित, सजग और सक्रिय हैं उतना आज की पीढ़ी के कलाकार भी नहीं। हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान वे और करन जौहर प्रशंसकों और मीडिया से बातचीत कर रहे थे। उस दौरान बॉलीवुड के शहंशाह ने मीडिया, सोशल मीडिया और फिल्मों में अपनी भूमिका को लेकर खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि अगर आप लोगों का गुस्सा झेलने और ‘ट्रॉल’ किए जाने के लिए तैयार नहीं हैं तो आपको सोशल मीडिया पर नहीं आना चाहिए।

फिल्म को हिट बनाने के फॉर्मूले पर अमिताभ बच्चन का कहना है कि इतने साल काम करने के बाद भी मैं यह नहीं समझ पाया हूँ कि कौन-सी फिल्म दर्शकों को पसंद आएगी और कौन-सी नहीं। इसलिए मैं सिर्फ अपने काम को बेहतर करने का प्रयास करता हूँ। जरूरी होता है तो लेखक-निर्देशक से सलाह-मशविरा कर लेता हूँ।

अपने भीतर झाँकते रहना और जरूरी परिवर्तन करना यानि समय के साथ चलना, थोड़ा उसमें ढलना और थोड़ा उसे अपने अनुसार ढाल लेना – अमिताभ बच्चन या उन जैसी किसी भी सफल शख्सियत की सफलता की ये सबसे बड़ी कुंजी रही है। अमिताभ अपने जीवन में आने-वाले तमाम उतार-चढ़ाव के बीच इस एक कुंजी को थामे रहे हैं, इसीलिए आज वे अपने जैसे अकेले हैं, सदी के सैकड़ों नायकों के बीच अकेले महानायक हैं।

बोल बिहार के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here