शत्रुघ्न: नोटबंदी पर तारीफ भी, तंज भी

0
64
shatrughan-sinha
shatrughan-sinha

पार्टी की मुख्यधारा से अलग-थलग रह रहे भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने एक ओर नोटबंदी को साहसिक फैसला बताते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी, तो दूसरी ओर इस फैसले को सही ढंग से नहीं संभाल पाने के कारण देश भर में हुई कुव्यवस्था के लिए केन्द्र सरकार को आड़े हाथों भी लिया।

शत्रुघ्न ने आज एक के बाद एक लगातार छह ट्वीट किए। उन्होंने लिखा, “मैं अपने तेज-तर्रार हीरो प्रधानमंत्री का सम्मान करता हूँ। कालेधन पर अंकुश लगाने के लिए प्रधानमंत्री ने सही समय पर सही निर्णय लिया है। कालेधन पर अंकुश के लिए उन्होंने जो कदम उठाया है वह साहसिक और समय पर लिया गया कदम है।” इसके पाँच मिनट बाद के अपने ट्वीट में उन्होंने कहा, “मैं अपने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक बार फिर बधाई देता हूँ और उन्हें सलाम करता हूँ। हालांकि, मैं अपनी टीम में शामिल कुछ लोगों द्वारा योजना के कुप्रबंधन से निराश हूँ।” आगे उन्होंने लिखा, हमलोगों को आम आदमी को बिना नुकसान पहुँचाए एक योजना को कैसे लागू किया जाए, इसके लिए तैयार रहना चाहिए था। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हमारे जो मतदाता हैं, उनमें ज्यादातर गरीब हैं।”

पटना साहिब के सांसद ने इशारों-इशारों में तंज कसते हुए फिर ट्वीट किया कि “राहत की घोषणाएं अब की गई हैं, जबकि इसे पहले ही दिन घोषित किया जाना चाहिए था। इसे गरीबों की जान की कीमत पर घोषित नहीं करना चाहिए। इसके लिए प्रधानमंत्री को दोषी नहीं ठहराया जा सकता। लेकिन जवाबदेही तय की जानी चाहिए कि हममें से आखिर कौन है, जिसकी वजह से यह अराजकता की स्थिति है।”

अपने एक और ट्वीट में शत्रु ने कहा, “एक और तथ्य है। हमारी माताओं और बहनों द्वारा घरों में जमा किए गए पैसे को कालेधन, आतंकवाद, नशीली दवाओं से नहीं जोड़ा सकता। ये परिवार के भविष्य के लिए जमा किए गए पैसे हैं।”

कुल मिलाकर शत्रुघ्न सिन्हा ने प्रधानमंत्री के साहस की सराहना तो की लेकिन वो सराहना वास्तव में आलोचना की ‘पूर्वपीठिका’ है। ये कुछ वैसा ही है जैसे मुँह में चीनी के कुछ दाने डालें, फिर मुट्ठी भर कर मिर्ची ठूंस दें। भाषा के फर्क को कुछ देर के लिए भूल जाएं, फिर लालू ने इससे कुछ अलग बोला हो तो बताएं। लालू के सुर में सुर मिलाते इस ‘शत्रु’ का भाजपा आखिर करे तो क्या?

बोल बिहार के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here