नीतीशजी, अभी कठिन है डगर ‘पनघट’ की

0
94
Nitish, Modi and Kejriwal
Nitish, Modi and Kejriwal

हमारे नीतीशजी इन दिनों बड़ी शिद्दत से अपने ‘अखिल भारतीय’ अभियान पर हैं। ‘विकास-पुरुष’ का जो तमगा उन्हें बिहार के लिए मिला उस पर पूरे देश की ‘मुहर’ चाहते हैं वो। 2019 में प्रधानमंत्री मोदी के बरक्स खुद को खड़ा करने करने के लिए शराबबंदी को राष्ट्रीय मुद्दा बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ नीतीशजी। वैसे देखा जाय तो 2019 के लिए मैदान में ‘भीड़’ है भी नहीं और मोदी के जवाब के तौर पर उन्हें राहुल गांधी से बेहतर मानने वालों की भी कमी नहीं। पर मोदी हैं कि हाथ लग ही नहीं रहे। और तो और, उनके और मोदी के बीच, बीच में ‘टपकने’ के लिए मशहूर अरविन्द केजरीवाल भी कूद पड़े हैं।

जी हाँ, इंडिया टुडे और कार्वी इनसाइट्स के सर्वे के मुताबिक गुड गवर्नेंस और लोकप्रियता में तो मोदी देश के किसी भी राजनेता से कोसों आगे हैं ही, मुख्यमंत्री के तौर पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी बिहार के मुख्यमंत्री से अधिक लोकप्रिय आंके गए हैं और मोदी के लिए ‘खतरे’ के तौर पर भी राहुल के बाद नीतीश के साथ-साथ लगभग बराबरी पर खड़े हैं।

सर्वे के मुताबिक देश के 53 प्रतिशत लोग बतौर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रदर्शन शानदार मानते हैं। सर्वे में शामिल आधे लोगों ने उन्हें देश का नंबर वन नेता माना है और प्रधानमंत्री पद के लिए बेहतर उम्मीदवार बताया है, जबकि 13 प्रतिशत लोग इसके लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष और 6 प्रतिशत उनकी माँ सोनिया गांधी को सही मानते हैं।

अगले लोकसभा चुनाव की बात करें तो राहुल गांधी मोदी को कड़ी टक्कर दे सकते हैं। 23 प्रतिशत लोगों ने 2019 के लिए राहुल को मोदी के लिए सबसे बड़ा खतरा माना है, जबकि 13 प्रतिशत लोगों ने नीतीश और 12 प्रतिशत लोगों ने केजरीवाल के पक्ष में अपनी राय दी है।

मुख्यमंत्रियों की बात करें तो दिल्ली के अरविन्द केजरीवाल देश के सबसे बेहतर मुख्यमंत्री हैं। बिहार के नीतीश कुमार को दूसरा स्थान मिला है और तीसरे स्थान पर पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी हैं। हालांकि केजरीवाल की लोकप्रियता 2015 के मुकाबले 2016 में कम हुई है, लेकिन मुख्यमंत्री के रूप में वो लोगों की पहली पसंद हैं।

बता दें कि इंडिया टुडे और कार्वी इनसाइट्स का ये सर्वे 15 जुलाई से 2 अगस्त के बीच किया गया और 19 राज्यों के 97 संसदीय और 194 विधानसभा क्षेत्रों में 12,321 लोगों से राय ली गई।

बोल बिहार के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here