ये तस्लीमुद्दीन बोल रहे हैं या लालू..?

0
93
Lalu Prasad Yadav & Taslimuddin
Lalu Prasad Yadav & Taslimuddin

राजद सांसद और पूर्व केन्द्रीय मंत्री मोहम्मद तस्लीमुद्दीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ‘दारू की बोतल’ से बाहर निकलने को बोल रहे हैं। सीवान में दैनिक हिन्दुस्तान के ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन की हत्या को लेकर उन्होंने सीधा नीतीश पर ही हमला बोल दिया। उन्होंने कहा कि बिहार में ‘जंगलराज’ कायम हो गया है। यहाँ पत्रकार भी सुरक्षित नहीं हैं। अगर राज्य में अपराध रोकना है तो नीतीश को दारू (शराब) की बोतल (शराबबंदी) से बाहर निकलना होगा। यही नहीं, उनकी मानें तो बिहार के कथित ‘जंगलराज’ के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही जिम्मेदार हैं।

बिहार में बढ़ती आपराधिक घटनाओं को लेकर तस्लीमुद्दीन ने जो कहा कुछ उसकी उम्मीद नीतीश को हरगिज ना होगी। खास तौर पर तब जबकि तस्लीमुद्दीन उसी राजद के हैं जिसको लेकर विपक्ष ‘जंगलराज’ की बात करता है और जिससे गठबंधन के बाद से नीतीश लगातार निशाने पर हैं..! और इसलिए भी कि राजद स्वयं सरकार का हिस्सा है और उपमुख्यमंत्री राजद सुप्रीमो के ही सुपुत्र हैं।

बहरहाल, तस्लीमुद्दीन ने कथित ‘जंगलराज’ के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि “सुशासन बाबू की सरकार में रोज सरेआम हत्याएं हो रही हैं। राज्य में अपराधियों का बोलबाला है और सरकार का अपराध पर कोई लगाम नहीं है।” ऐसा केवल तस्लीमुद्दीन ने कहा होता तो इसे उनकी व्यक्तिगत राय हम कह सकते थे। पर जब राजद के अत्यन्त सुलझे हुए नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी तस्लीमुद्दीन के सुर में सुर मिलाया तो बात हल्के में लेने वाली हरगिज ना रही। उन्होंने भी कह ही दिया कि “बिहार की स्टेयरिंग नीतीश कुमार के हाथ में है, उन्हें अपराध पर लगाम लगाना चाहिए। राज्य में हत्या और अपराध की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं।”

जब साथी के बोल ऐसे हों तो भला विपक्ष चुप कैसे रहे..? बिहार भाजपा के अध्यक्ष मंगल पांडेय ने कहा कि विपक्ष होने के नाते भाजपा चुप नहीं बैठेगी। अब पार्टी सड़क पर उतरकर अपना विरोध जताएगी। उधर ‘हम’ के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने नीतीश सरकार को हर मोर्चे पर विफल बताते हुए यहाँ तक कह डाला कि बिहार में ‘जंगलराज’ नहीं, ‘महाजंगलराज’ की शुरुआत हो चुकी है।

खैर, यहाँ विपक्ष की आलोचना समझ में आती है लेकिन राजद नेताओं के बदले सुर समझ से परे हैं। क्या पार्टी के दो वरिष्ठ नेताओं का इतना बड़ा बयान देना संयोगमात्र है..? या ‘जंगलराज’ के टैग से ऊब चुके लालू अब नीतीश को भी इसके लपेटे में लेना चाहते हैं..? या फिर उनकी पार्टी नीतीश के प्रधानमंत्री पद के कन्फर्म होते दिख रहे टिकट को ‘वेटिंग’ में ही रखने के गुप्त अभियान में जुटी है..?

‘बोल बिहार’ के लिए डॉ. ए. दीप

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here