मैं आदिवासी हूँ

0
1467
Main Adivasi Hoon
Main Adivasi Hoon

मुझे नहीं पता
शहरों की चकाचौंध
हवस और हिंसा क्या होती है
मुझे नहीं बताया मेरे पूर्वजों ने

मुझे दिखलाई गई केवल
बाँह से हथेली की दूरी
और यह कहकर
भेज दिया गया जंगलों में
कि तुम स्वयं हो विश्वकर्मा
अपने संसार के

तब से अब तक
जंगल ही है मेरी दुनिया

अब जबकि
लोहे और सीमेंट नाम की चीजों से
बनने लगे हैं नये किस्म के जंगल
मैं सिमटता जा रहा हूँ हर दिन
अपने पुराने जंगल में
और हर दिन छोटी होती जा रही है
मेरी दुनिया
फिर भी खुश हूँ मैं

हाँ, खुश हूं मैं
कि अब भी पीता हूं
जीवन का रस
जो नसीब नहीं शहरों को…
क्या होती है गोयठे की महक
और कैसा होता है गेठी का स्वाद
क्या जानें लोहे और सीमेंट के जंगलवाले

मैं खुश हूँ
कि मेरी जरूरतें
बड़ी नहीं जीवन से
कि जिस कस्तूरी की तलाश है मुझे
वो मेरे ही भीतर है

मैं खुश हूँ
कि पता है मुझे
हर सिद्धार्थ का गंतव्य
कि बुद्ध होने के लिए
आना होता है उन्हें
ऐसे ही किसी जंगल में

हाँ,
बहुत खुश हूँ मैं
कि उसी बुद्ध के
मध्यम मार्ग का अभ्यासी हूँ
मैं आदिवासी हूँ।

[डॉ. ए. दीप की कविता]

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here